Big update for the investors of Ambani Adani Group

अंबानी अडानी ग्रुप के निवेशको के लिए बड़ा अपडेट, जानिए डिटेल्स

कर्ज में डूबा किशोर बियानी के बिजनेस. वहीं फ्यूचर ग्रुप के शेयरों में पिछले दो हफ्तों के दौरान काफी इजाफा हुआ है और तथ्य यह है कि मुकेश अंबानी और गौतम अडानी इस व्यवसाय को हासिल करने की होड़ में हैं, यह एक महत्वपूर्ण कारक है

निवेशक इस परिदृश्य से प्रसन्न हैं क्योंकि वे जानते हैं कि जो कोई भी इस फर्म को प्राप्त करेगा, वह इसे पुनर्जीवित करने में सक्षम होगा और इस वजह से ट्रेडिंग बंद होने से पहले फ्यूचर ग्रुप के शेयर कुछ दिनों तक हाई सर्किट पर थे

इस समय लगा अपर सर्किट? फ्यूचर रिटेल के शेयर की कीमत 3.66 रुपये है और 9 सितंबर के बाद से इस शेयर में काफी बदलाव देखने को मिले हैं. वहीं स्टॉक में 9 सितंबर से 14 सितंबर के बाद ऊपर की ओर सर्किट ट्रेडिंग देखी गई, लेकिन उसके बाद इसने 2 नवंबर तक लगातार लोअर सर्किट ट्रेडिंग का अनुभव किया और फिर टॉप सर्किट 11 नवंबर तक लगातार शुरू हुआ

Big update for the investors of Ambani Adani Group

दावे कौन कर रहा है? अप्रैल मून रिटेल प्राइवेट लिमिटेड, अदानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स और फ्लेमिंगो ग्रुप के बीच एक साझेदारी, फ्यूचर रिटेल के लिए पहली बोली लगाने वाली कंपनी है. इसी के साथ मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस रिटेल अन्य प्रतियोगी है और इनके अलावा फ्यूचर रिटेल को 13 अन्य फर्मों से एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट मिला है

यह भी पढ़े – ये स्टॉक्स आपको दिला सकते है आपको भयंकर रिटर्न

रिलायंस इंडस्ट्रीज की इकाई फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) ने अगस्त 2020 में 24713 करोड़ रुपये के विलय सौदे की घोषणा की और अनुबंध के अनुसार, रिलायंस रिटेल को 19 फ्यूचर ग्रुप फर्मों को खरीदना था जो रिटेल, थोक, रसद और भंडारण उद्योग में शामिल थीं. सभी खुदरा कारोबार जो RIL समूह का हिस्सा हैं, वो RRVL द्वारा स्वामित्व वाली कंपनियां हैं

अमेज़न सौदे के खिलाफ क्यों बना रहा? अमेज़ॅन इस विलय व्यवस्था के खिलाफ तब से है जब इसकी घोषणा की गई थी और अमेज़ॅन ने कई कानूनी लड़ाइयों में अधिग्रहण के लिए लड़ा है, यह तर्क देते हुए कि यह फ्यूचर ग्रुप के साथ निवेश समझौते का उल्लंघन है

यह भी पढ़े – जानिए कौनसी सुविधाए मिलती है अंबानी अडानी के नौकरों को

वास्तव में, दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन रिटेलर Amazon ने FRL को बढ़ावा देने वाली कंपनी Future Coupons Private Limited (FCPL) में 49% ब्याज खरीदने के लिए निवेश करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए. इसी के आधार पर उसने फ्यूचर रिटेल को भविष्य में खरीदने की रणनीति बनाई थी. हालांकि, इसी बीच फ्यूचर रिटेल ने रिलायंस के साथ डील कर ली

यह भी पढ़े – अडानी ग्रुप के निवेशको के लिए बड़ा अपडेट, जानिए डिटेल्स

Disclaimer: इस आर्टिकल को कुछ अनुमानों और जानकारी के आधार पर बनाया है हम फाइनेंसियल एडवाइजर नही है आप इस आर्टिकल को पढ़कर शेयर बाज़ार (Stock Market), म्यूच्यूअल फण्ड (Mutual Fund), क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) निवेश करते है तो आपके प्रॉफिट (Profit) और लोस (Loss) के हम जिम्मेदार नही है इसलिए अपनी समझ से निवेश करे और निवेश करने से पहले फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह जरुर ले

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *